Hunarbaaz Winner: स्ट्रीट लाइट पर पोल डांस की प्रैक्टिस करने वाले बिहार के आकाश ने जीता टाइटल

बिहार की धरती से हमेशा नए नए टैलेंट उभरते रहे हैं और देश का नाम रोशन कर रहे हैं. ऐसा एक बार फिर हुआ है. दरअसल भागलपुर के सबौर के जमसी निवासी राज किशोर सिंह के बेटे आकाश ने अपने हैरतअंगेज कला से देश भर के लोगों को चौंका दिया है. कलर्स चैनल पर हुनरबाज नामक शो में आकाश ने एरियल आर्ट और फ्लाइंग पोल पर अपना जौहर दिखाकर रियलिटी शो हुनरबाज का खिताब जीत लिया है.

 

आकाश को इनाम के तौर पर 15 लाख रुपए का चेक मिला है. हुनरबाज के ग्रैंड फिनाले में नीतू सिंह और नोरा फतेही ने आकाश को ट्रॉफी दी. इस शो की जज परिणीति चोपड़ा, मिथुन चक्रवर्ती और करण जौहर थे. 22 जनवरी से हुनरबाज देश की शान रियलिटी शो की शुरुआत हुई थी. आकाश ने अपने प्रदर्शन से सभी जजों का दिल जीत लिया था. रविवार को ग्रैंड फिनाले आयोजित किया गया था, जिसमें आकाश को यह खिताब मिला.

अपनी जीत पर आकाश ने खुशी जतायी और कहा कि इसका पूरा श्रेय वो अपने माता-पिता को देना चाहता है. आकाश ने कहा कि इंसान अगर चाहे तो हर मुश्किल को आसान बनाया जा सकता है. गरीबी किसी की सफलता की राह का रोड़ा नहीं बन सकता, बस करने की लगन होनी चाहिए हो सकता है सफलता में थोड़ी देरी हो सकती है लेकिन असंभव नहीं है. मीडिया के मुताबिक आकाश इनाम में मिले पैसे से गांव में माता-पिता के लिए घर बनाएगा. उससे पहले अपने माता-पिता को वह मुंबई घुमाना चाहता है.

 

आकाश 4 साल से मुंबई में रहकर पोल डांसिंग की प्रैक्टिस कर रहा था. वह लाइट के पिलर और पार्कों में लगे पिलर पर डांस की प्रैक्टिस करता था. वह बॉलीवुड में भाग्य आजमाना चाहता है और अपने जैसे हुनरमंदों की मदद करना चाहता है. आकाश का भागलपुर से मायानगरी मुंबई का सफर काफी पीड़ादायक है. आकाश का बचपन एक रूम के खपरैल के घर में बीता. अभी भी आकाश की मां मिट्टी के चूल्हे पर खाना बनाती है. जब मीडिया  की टीम उसके घर पहुंची तो आकाश की मां अपने बेटे की तरक्की पर खुशी से रो पड़ी. मां पुष्पा देवी ने बताया कि बहुत कष्ट से उसे पाला. धरती पर लिखना सिखाया था. अब हमें अच्छा लग रहा है वह इतना आगे बढ़ा.

Leave a Comment